Mar ०१, २०२४ १८:४३ Asia/Kolkata
  • ग़ज़ा में मानवीय सहयता के इंतेज़ार में खड़े फ़िलिस्तीनियों के नरसंहार पर ज़ायोनी शासन की दुनिया भर में भर्त्सना

ज़ायोनी सैनिकों के हाथों ग़ज़ा में उन फ़िलिस्तीनियों के नरसंहार की दुनिया भर में भारी निंदा हो रही है जो मानवीय सहायता के इंतेज़ार में खड़े थे कि इस्राईली सेना ने उन पर हमला कर दिया।

इस हमले में कम से कम 112 फ़िलिस्तीनी मौत की नींद सो गए जबकि 750 घायल हुए। यह घटना गुरुवार को हुई। यह लोग मानवीय सहायता से लदे ट्रकों के घेर कर खड़े थे कि अचानक ज़ायोनी सेना ने उन पर बमबारी कर दी।

कई एनजीओज़ और संयुक्त राष्ट्र संघ के विशेषज्ञ कई बार आशंका जता चुका हैं कि पांच महीने से जारी जंग की वजह से ग़ज़ में फ़िलिस्तीनियों को भुखमरी का सामना है।

चीन के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को इस घटना के कड़ाई के साथ निंदा की और उसे हैरान कर देने वाली घटना बताया।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि चीन इस घटना पर शाक्ड है और इसकी घोर निंदा करता है।

ईरान ने ग़ज़ा में जनसंहार पर अमरीका और यूरोपीय देशों की ख़ामोशी की भी कड़े शब्दों में निंदा की है।

फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रां ने भी इस घटना की निंदा की और वास्तविक न्याय दिलाए जाने की मांग की।

सऊदी अरब ने भी निहत्थे आम नागरिकों के जनसंहार की निंदा की वहीं कुवैत और संयुक्त अरब इमारात ने भी कहा कि हम इस घटना की निंदा करते हैं।

क़तर ने चेतावनी  दी कि इस्राईल को फ़िलिस्तीनियों के खूतन के लिए कोई सम्मान नहीं है और इससे हिंसा का दायरा और भी बढ़ेगा।

तुर्की ने कहा कि यह घटना साक्ष्य है कि इस्राईल सारे फ़िलिस्तीनियों को मिटा देने की मंशा रखता है।

स्पेन के विदेश मंत्री ने कहा कि इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता और इस प्रकार की घटनाओं से पता चलता है कि ग़ज़ा में संघर्ष विराम की कितनी भारी ज़रूरत है।

यूरोपीय संघ के विदेशी मामलों के चीफ़ जोज़ेप बोरेल ने कहा कि यह एक और त्रास्दी है।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें। 

टैग्स