Mar ०३, २०२४ १२:०५ Asia/Kolkata
  • फ़ाइल फ़ोटो
    फ़ाइल फ़ोटो

सैकड़ों की संख्या में लोगों ने वाशिंग्टन में इस्राईली दूतावास के बाहर प्रदर्शन किए और ग़ज़ा पट्टी में ज़ायोनी शासन के हाथों जारी नस्लीय सफ़ाए की घोर निंदा की।

इस्राईल के विरोध का यह सिलसिला महीनों से लगातार जारी है।

शनिवार को उस जगह प्रदर्शन हुए जहां कुछ दिन पहले अमरीकी वायु सेना के अधिकारी ने इस्राईल के अमानवीय अपराधों पर एतेराज़ करते हुए आत्मदाह कर लिया था।

एक प्रदर्शनकारी ने एएफ़पी से बात करते हुए कहा कि यह देखकर मुझे उम्मीद बंधती है कि सारे लोगों ने हार नहीं मानी है बल्कि कुछ लोग हैं जो बाहर आ रहे हैं और सही दिशा में अपनी आवाज़ उठा रहे हैं।

एक अन्य प्रदर्शनकारी ने कहा कि मुख्य संदेश है कि फ़िलिस्तीन को आज़ाद किया जाए, यह बात हर कोई कह रहा है और यही हम सब चाहते हैं।

अमरीकी वायु सेना के अफ़सर आरोन बुशनेल ने गत रविवार को इस्राईली दूतावास के सामने आत्मदाह कर लिया था। 25 साल के अफ़सर ने वर्दी पहने हुए आत्म दाह कर लिया।

बुशनेल ने आत्मदाह करने से पहले कहा कि अब वह अब और जेनोसाइड में भागीदारी नहीं करना चाहता।

इस्राईल ने गत 7 अक्तूबर से ग़ज़ा पट्टी पर युद्ध थोप रखा है और बड़ी बेरहमी के साथ फ़िलिस्तीनियों को नस्लीय सफ़ाया कर रहा है।

अब तक ज़ायोनी शासन 30 हज़ार 320 फ़िलिस्तीनियों को क़त्ल कर चुका है जिनमें अधिकतर महिलाएं और बच्चे हैं। इस्राईल के हमलों में 71 हज़ार 533 लोग घायल हुए हैं।

संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार प्रमुख ग़ज़ा में जारी नस्लीय सफ़ाए पर गहरी चिंता जता चुके हैं।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें।  

टैग्स