Jun १८, २०२४ १७:२३ Asia/Kolkata
  • अमेरिका के जासूसी नेटवर्क को ख़त्म करने में यमनियों को मिलने वाली कामयाबी से अमेरिकी थिंकटैंक क्रोधित

पार्सटुडे- Foundation for Defense of Democracies यमन में सीआईए के जासूसों को गिरफ़्तार करने में यमन के अंसारुल्लाह संगठन को मिलने वाली कामयाबी से क्रोधित है और अपने पहले वाले दावों दो दोहराते हुए उसने दावा किया है कि ये लोग राष्ट्रसंघ के कर्मचारी थे।

Foundation for Defense of Democracies ने एक रिपोर्ट में यमन में अमेरिकी जासूसों की गिरफ़्तारी पर प्रतिक्रिया जताई है।

 

पार्सटुडे की रिपोर्ट के अनुसार Foundation for Defense of Democracies ने लिखा है कि अंसारुल्लाह के इंटेलिजेन्स प्रमुख अब्दुल हकीम अलख़ैवानी कहा है कि आरंभ में यह नेटवर्क सना में अमेरिकी दूतावास से बाहर काम करता था और वर्ष 2015 में अमेरिकी दूतावास के बंद हो जाने के बाद इस नेटवर्क ने अपनी विध्वंसक कार्यवाहियां अंतरराष्ट्रीय संगठनों यहां तक कि राष्ट्रसंघ की आड़ में जारी रखा।

 

Foundation for Defense of Democracies  की रिपोर्ट के अनुसार यद्यपि यमन के अंसारुल्लाह ने अभी तक नहीं बताया है कि कितने लोगों को गिरफ़्तार किया गया है परंतु इस संबंध में उसने जो वीडियो प्रकाशित किया है उसमें 10 लोगों की गिरफ़्तारी की ओर संकेत किया किया गया है।

 

Foundation for Defense of Democracies  के विशेषज्ञ जॉनथन ने अंसारुल्लाह के ख़िलाफ़ पश्चिम के आरोपों की पुनरावृत्ति करते हुए स्वीकार किया है कि अंसारुल्लाह की ओर से सख़्त निगरानी प्रतिरोध को मज़बूत करने के लक्ष्य से हो रही है।

 

उल्लेखनीय है कि यमन के अंसारुल्लाह संगठन ने 10 जून से पहले राष्ट्रसंघ और दूसरी अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं व संगठनों में काम करने वाले लगभग 15 यमनियों को गिरफ़्तार किया था और अमेरिका के जासूसी नेटवर्क से जुड़े लगभग 10 लोगों को 10 जून को गिरफ़्तार किया था और Foundation for Defense of Democracies  ने  दोनों गिरफ़्तारी को एक दूसरे से संबंधित बताया है। MM

 

यमन का अंसारुल्लाह, लालसागर में जंग, यमन पर अमेरिकी हमला, सीआईए, अमेरिकी जासूस  

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें।

टैग्स